पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग क्या है?

Video
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

पॉवर ऑफ़ कंपाउंडिंग बहुतों को एक मुश्किल शीर्षक जान पड़ेगा| ऐसा कतई नहीं है और इसे सरलता से समझने में हम आपकी मदद करेंगे|

आइये ये मान कर चलें की किसी ने रुपये 10000/- @ 8% के हिसाब से निवेश किया है| सालाना सूद 800/- होगा| तथापि, जब सूद उसी निवेश में पुनः निवेशित होता है, अगले साल की उपार्जित आमदनी में न केवल मूल 10000/- अपितु 800/- का अतिरिक्त निवेश भी दर्शायेगा, अतः दूसरे वर्ष ये राशि 864/- होगी| जैसे जैसे सालों की वृद्धि होगी, सालाना सूद में भी वृद्धि होगी क्योंकि हर साल अतिरिक्त निवेश भी हो रहा है|

एक निर्दिष्ट समयावधि के बाद, कितनी राशि एकत्रित होगी, अगर सालाना प्रतिफल/रिटर्न निवेशित होता है?

निवेश- 10000/-
रिटर्न/प्रतिफल दर: 8%

Power of compounding

ये तालिका एक दिलचस्प मिसाल है| निवेश अवधि जितनी लंबी होती है, आय में बढौतरी तेज़ होती है| जहां पहले पांच वर्षों में आय 0.47 लाख थी, वहीं अगले पांच वर्षों में 0.69 लाख हुई (2.16 लाख -1.47 लाख)| 21वें साल में- एक ही वर्ष में- ये 0.37 लाख रही|

“वक़्त के साथ आय संख्या में नहीं, घातांकीय वृद्धि में फलीभूत”

अनिवार्य रूप से, कंपाउंडिंग/योग आय की वो प्रक्रिया है जिसमें आप अपने मूल पूँजी निवेश और अर्जित आय, दोनों पर आमदनी अर्जित करते हैं- अर्जित आय भी आमदनी का ज़रिया बन जाती है क्यों कि उसे पुनः निवेश किया जाता है|

मैं निवेश के लिए तैयार हूँ