डेट फंड्स का प्रदर्शन किन बातों से प्रभावितहोता है?

डेट फंड्स का प्रदर्शन किन बातों से प्रभावितहोता है? zoom-icon
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

डेट फंड्स हमारे पैसे को ब्याज देने वाली उन सिक्योरिटीज (प्रतिभूतियों), जैसे कि बॉन्ड्स और मनी मार्केट इन्स्ट्रुमेंट, में निवेश करते हैं जो नियमित ब्याज का भुगतान करने का वादा करती हैं।ये ब्याज भुगतान फंड द्वारा प्राप्त होते हैं ; जो बदले में फंड के एक निवेशक के रूप में हमें मिलने वाले कुल रिटर्न में योगदान देता है।जब बाज़ार में ब्याज दरों में परिवर्तन होता है, तो बॉन्ड्स और मनी मार्केट इन्स्ट्रुमेंट जैसी फिक्स्ड इनकम सिक्योरिटीज की कीमतों में भी बदलाव होता है, लेकिन विपरीत दिशा में।

जब ब्याज दर बढ़ती है तो इन फंड्स की कीमतें गिरती हैं और ब्याज दर कम होने पर कीमतें बढ़ती हैं। इस प्रकार, इन सिक्योरिटीज की कीमतों में बदलाव होने पर डेट फंड्स की एनएवी में भी बदलाव होता है।एनएवी में बदलाव का असर इन फंड्स के कुल रिटर्न पर पड़ता है। ब्याज दरों में बदलाव के अलावा, बॉन्ड्स की क्रेडिट रेटिंग में बदलाव से डेब्ट फंड्स के रिटर्न प्रभावित हो सकते हैं। क्रेडिट रेटिंग, बॉन्ड जारीकर्ता की साख को दर्शाती है। रेटिंग में गिरावट से इन बॉन्ड्स की कीमतों में भी गिरावट होगी। इससे इन बॉन्ड्स के फंड की एनएवी में भी गिरावट (या कमी) होने का दबाव बढ़ेगा।

इस प्रकार, एक डेट फंड्स के पोर्टफोलियो में बॉन्ड की क्रेडिट रेटिंग में गिरावट से आपके रिटर्न कम हो सकते हैं।
डिफ़ॉल्ट जोखिम में बढ़ोतरी या बॉन्ड जारीकर्ता द्वारा ब्याज का भुगतान करने या मूलधन वापस लौटाने में असफल रहने की संभावना फिक्स्ड इनकम फंड्स से रिटर्न पर विपरीत असर डालती है क्योंकि ब्याज का भुगतान आपके फंड के कुल रिटर्न में जुड़ता है।

396
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ