म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें?

Video
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

दातर लोग रिटायरमेंट के करीब आने तक अपने रिटायरमेंट के बारे में नहीं सोचते। पूरी ज़िंदगी एक के बाद दूसरी ज़रूरतों को पूरा करने में खर्च हो जाती है, गाड़ी खरीदने से लेकर, घर खरीदने, परिवार का भरण-पोषण, बच्चों की पढाई से लेकर उनकी शादी तक। जब ये ज़िम्मेदारियां खत्म हो जाती हैं, हम रिटायरमेंट जो कि बस आने ही वाला है, के लिए कितने पैसे बचे हैं देखना शुरू कर देते हैं। इसी समय लोग अपने जीवन भर की बचत को किसी ऐसी चीज़ में निवेश करने की सोचते हैं जो रिटायरमेंट का दौर शुरू होने से पहले कम समय में ज़्यादा मुनाफ़ा दे सके। जीवन के उस दौर के लिए ऐसी प्लानिंग करना गलत तरीका है जहाँ आपको सबसे ज़्यादा आराम, सुरक्षा, अच्छी सेहत और बिना किसी रेगुलर इनकम के 15 से 30 साल तक सहारे की ज़रूरत है।  

इस दौर की प्लानिंग करना जितना जल्दी शुरू कर दें उतना अच्छा। भले ही आपकी कमाई और लाइफस्टाइल कैसी भी हो, आप अपने सारे ख़र्चों को पूरा करने के बाद हमेशा पैसे बचा सकते हैं और आपके सारे बिल और दूसरी ज़रूरी चीज़ों को पूरा करने के बाद जैसे कार की ईएमआई, होम लोन की ईएमआई, बच्चों के लिए किये गए इन्वेस्टमेंट, इमरजेंसी फंड आदि जैसी आपकी फिनेंशिअल कमिटमेंट को पूरा करने के बाद आपके पास ज़रूर महीने के आखिर में कुछ पैसे बचते होंगे।

भले ही रकम छोटी क्यों ना हो, इसे सही ज़रिये में निवेश करने से आपको लंबी समय अवधि में बड़ी राशि बनाने में मदद मिल सकती है। और म्यूचुअल फंड्स से बेहतर ज़रिया और क्या हो सकता है! आप एसआईपी द्वारा म्यूचुअल फंड्स में हर महीने 500 रुपये से निवेश कर सकते हैं और आपकी इनकम/बचत बढ़ने पर राशि को बढ़ा सकते हैं। जब कम्पाउंडिंग के करिश्मे की ताकत देखेंगे तो आपको सुखद आश्चर्य होगा और क्या पता आगे चलकर आपको कुबेर का खज़ाना हाथ लग सकता है।

292
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ