म्यूचुअल फंड्स में विलंब की कीमत/कम्पाउंडिंग (चक्रवृद्धि) का प्रभाव

Video
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

जब आप लंबी अवधि के लिए म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं, तो आपको मिलने वाली रिटर्न्स पर कम्पाउंडिंग (चक्रवृद्धि) प्रभाव होता है। हालांकि, अगर आप कुछ सालों बाद देर से निवेश करते हैं, तो आपको उसमें नुकसान होगा। कम्पाउंडिंग (चक्रवृद्धि) प्रभाव आपके द्वारा जमा की जाने वाली रकम और उस रकम के बीच अंतर को बढ़ा देगा जो आप जमा कर सकते थे, अगर आप कुछ साल पहले निवेश की शुरुआत करते। इसे बेहतर ढंग से समझने के लिए mutualfundssahihai.com/hi/what-age-should-one-start-investing देखें।

कम्पाउंडिंग (चक्रवृद्धि) प्रभाव लंबी अवधि में अपना जादू दिखाता है क्योंकि आप जितने लंबे समय तक निवेश में बने रहेंगे, आपकी रकम को कम्पाउंडिंग (चक्रवृद्धि) के लिए उतना अधिक समय मिलेगा। पॉवर ऑफ़ कम्पाउंडिंग एक आवर्धक लेन्स की तरह होती है जिसकी आवर्धन शक्ति समय के साथ तेज़ी से बढ़ती है। अगर आप निवेश में देर करते हैं, भले ही SIP के माध्यम से या एकमुश्त, और एक बड़ी रकम निवेश करते हैं, तो आप फिर भी ऐसे किसी व्यक्ति के करीब नहीं पहुँच पाएंगे जिसने आपसे, मान लीजिए, पाँच साल पहले निवेश की शुरुआत की थी। SIP के मामले में, हो सकता है वह आपकी तुलना में आधी रकम निवेश कर रहा/रही हो लेकिन आपका निवेश फिर भी उससे पीछे रहेगा। एकमुश्त निवेश के साथ भी, कुछ साल की देरी का मतलब होगा कि आपकी जमा हुई रकम ऐसे किसी व्यक्ति की जमा रकम से कम होगी जिसने आपसे कुछ साल पहले निवेश की शुरुआत की थी। यह आपके निवेश से जुड़े फैसले में देर करने के लिए चुकाई जाने वाली एक बड़ी कीमत है।

अगर आप म्यूचुअल फंड्स में जल्दी निवेश करना शुरू करते हैं, भले ही आपकी निवेश की रकम कम हो, तकरीबन 10 साल बाद ज़्यादा रकम के साथ निवेश शुरू करने की तुलना में आप संभवतः कुछ दशकों में कहीं ज़्यादा रकम जमा कर सकेंगे। यह खरगोश और कछुए की कहानी की तरह है जिसमें भले ही ज़्यादा रकम के साथ देर से निवेश शुरू करने की तुलना में, जीवन में जल्दी शुरू किया गया धीमा और स्थिर निवेश आपके लक्ष्य को आसानी से पूरा करने में आपकी मदद करेगा।

292
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ