उपयुक्त पुरस्कार के लिए, जोखिम में विविधताएं

Video
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

जोखिमों को नियंत्रित किया जा सकता है। और म्यूचुअल फंड लाभकारी हो सकते हैं!

जब हम निवेश में “जोखिम” की बात करते हैं तो निवेशक के दिमाग में फौरन ही कुछ सवाल उठ खड़े होते हैं… “क्या मेरा पैसा सुरक्षित है?”  ”मुझे कितना रिटर्न मिलेगा?” “क्या जरूरत के समय मुझे मेरा पैसा वापस मिल जाएगा?”… जबकि, ये सभी बहुत ही मान्य सवाल हैं, आइये म्यूचुअल फंड को बेहतर समझने के लिए इन पर तीन दृष्टिकोणों से विचार करें।

पेशेवर फंड प्रबंधन - म्यूचुअल फंडों का प्रबंधन पेशेवर फंड प्रबंधकों द्वारा किया जाता है और एक निवेशक के रूप में आपको उनके शोध और विशेषज्ञता का लाभ मिलता है। जबकि इनसे पूरी तरह से जोखिम समाप्त नहीं होता है, यह निश्चित रूप से इसे कम करता है।

विविधीकरण (डाइवर्सिफिकेशन) – म्यूचुअल फंड प्रतिभूतियों का एक समूह है। डाइवर्सिफिकेशन, किसी विशेष प्रतिभूति के खराब प्रदर्शन के जोखिम को कम करता है।

अपने निवेश उद्देश्यों के अनुसार किसी योजना का चुनाव करें - यदि निवेश की समयावधि चुने गए फंड के अनुरूप है तो आप अप खुद को बहुत छोटी अवधि के उतार-चढ़ाव से सुरक्षित करते हैं। उदाहरण के लिए यदि आपने किसी इक्विटी फंड में निवेश किया है तो आप छोटी अवधि के उतार-चढ़ाव से प्रभावित हो सकते हैं, लेकिन लंबी अवधि में इस बात की काफी संभावना है कि आपको इक्विटी से जुड़े दीर्घकालीन प्रतिफल हासिल हों।

अधिकांश लोग मानते है कि म्यूचुअल फंड जोखिम भरे होते हैं जिसका संभावित कारण म्यूचुअल फंड विज्ञापनों में दिए गए मानक अस्वीकरण होते हैं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि निवेशक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कठोर विनियम होते हैं, पेशेवर फंड प्रबंधन और डाइवर्सिफिकेशन इन जोखिमों को काफी हद तक कम करते हैं।

292
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ