टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स में निवेश करने के फ़ायदे क्या हैं?

टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स में निवेश करने के फ़ायदे क्या हैं? zoom-icon
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

पिछले कुछ वर्षों में, निवेशक बेहतर टैक्स -एडजस्टेड रिटर्न की तलाश में फिक्स्ड डिपॉज़िट्स, PPF और पोस्ट ऑफ़िस सेविंग स्कीम्स जैसे पारम्परिक बचत उत्पादों को छोड़कर डेट फंड्स में जा रहे हैं। हालांकि, यह शिफ़्ट करने के दौरान रिटर्न्स की अनिश्चितता और अपनी मूल राशि गँवाने का जोखिम उन पर भारी पड़ता है। टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स (TMF) निष्क्रिय डेट फंड्स होते हैं जो FMP सहित अन्य डेट फंड्स की तुलना में कई लाभ प्रदान करते हैं।

इससे पहले कि हम टार्गेट मैच्योरिटी फंड के लाभों के बारे में बात करें, आइए देखें कि डेट फंड्स की इस श्रेणी की परिभाषित विशेषता क्या है। टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स की एक निर्दिष्ट मैच्योरिटी की तारीख़ होती है और उनके पोर्टफोलियो में बॉन्ड्स की एक्सपायरी डेट को इस मैच्योरिटी की तारीख़ के साथ संरेखित (अलाइन) किया जाता है। इसलिए, जैसे-जैसे समय बढ़ता है फंड की मैच्योरिटी की अवधि या समय घटता रहता है। साथ ही, पोर्टफोलियो में बॉन्ड्स मैच्योरिटी तक रखे जाते हैं।

TMF का सबसे पहला और सबसे आशाजनक लाभ यह है कि ब्याज दर में बदलाव उन्हें प्रभावित नहीं करता। चूँकि पोर्टफोलियो मैच्योरिटी तक रखा जाता है और उसकी अवधि घटती रहती है, वह साथ-साथ ब्याज दर में बदलावों के प्रति कम संवेदनशील होता है। दूसरा, बाकी डेट फंड्स की तुलना में TMF की बेहतर रिटर्न दृश्यता होती है क्योंकि बॉन्ड्स का पोर्टफोलियो मैच्योरिटी तक रखा जाता है। यह किसी भी समय रिटर्न की अपेक्षाओं को फंड की यील्ड-टू-मैच्योरिटी (YTM) के अनुरूप रखता है। तीसरी बात, निष्क्रिय स्वरूप होने के कारण, टार्गेट मैच्योरिटी बॉन्ड फंड्स मूलभूत बॉन्ड इंडेक्स की संरचना के आधार पर अपनी पूँजी को नियोजित करते हैं। इसलिए इन फंड्स का पोर्टफोलियो उन सरकारी सिक्युरिटीज में भारी निवेश करता है जो भारत के ज़्यादातर बॉन्ड इंडेक्स में शामिल होती हैं। वर्तमान में टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स के लिए सरकारी बॉन्ड्स, PSU बॉन्ड्स और राज्य विकास ऋण में निवेश करना अनिवार्य है। अन्य डेट फंड्स की तुलना में यह TMF के डिफ़ॉल्ट और क्रेडिट जोखिम को घटाता है।

चूँकि टार्गेट मैच्योरिटी फंड्स ओपन-एंडेड और इंडेक्स फंड्स या ETF के रूप में उपलब्ध होते हैं, इसलिए विशेष रूप से FMP की तुलना में वे नकदी प्रस्तुत करते हैं। साथ ही, अपने मैच्योरिटी प्रोफ़ाइल के संबंध में वे अधिक फ्लेक्सिबिलिटी प्रदान करते हैं ताकि निवेशक ऐसा फंड चुन सकें जिसकी मैच्योरिटी की तारीख़ उनके निवेश की अवधि के लिए सबसे उपयुक्त हो। जो निवेशक कुछ समय के लिए निवेश में बने रहना चाहते हैं और स्थिर रिटर्न की उम्मीद करते हैं उन्हें अपने मूल डेट फंड निवेश पोर्टफोलियो में टार्गेट मैच्योरिटी डेट इंडेक्स फंड या टार्गेट मैच्योरिटी ETF को शामिल करने के बारे में सोचना चाहिए।

292
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ