किसी इक्विटी फंड में निवेश करने से पहले किन जानकारियों और जोखिम मानकों पर विचार किया जाना चाहिए?

किसी इक्विटी फंड में निवेश करने से पहले किन जानकारियों और जोखिम मानकों पर विचार किया जाना चाहिए?
कैल्कुलेटर

म्यूचुअल फंड सही है?

अपने पोर्टफोलियो के लिए इक्विटी फंड चुनने के लिए एक व्यवस्थित चुनाव प्रक्रिया की ज़रूरत होती है जिसमें दो फेज़ होते हैं। पहला फेज़ आपके बारे में है और यह आपके पोर्टफोलियो में इक्विटी म्यूचुअल फंड की ज़रूरत या आपके वित्तीय गोल के साथ ही इसकी समय सीमा, इक्विटी फंड में निवेश के प्रकार और आपकी जोखिम लेने की क्षमता के असेसमेंट से शुरू होता है। एक बार जब ये तीनों चीजें तय हो जाती हैं, तो मौजूदा फंड्स में से सही फंड चुनने का अगला चरण यानी दूसरा फेज़ शुरू होता है।

इस तरह दूसरे फेज़ में ज़्यादा गुणात्मक नज़रिया अपनाकर सारे उपयुक्त फंड्स के बारे में थोड़ी जानकारी जुटाकर और अलग-अलग जोखिम मापदंडों की जांच करना शामिल है। आपको फंड पोर्टफोलियो, विंटेज, फंड मैनेजर्स, एक्सपेंस रेशो,  इसका बेंचमार्क और समय के साथ बेंचमार्क के संदर्भ में फंड ने कैसा परफॉर्म किया है, यह जानकारी देखनी चाहिए।

जब आप पोर्टफोलियो की जांच करते हैं, तो देखें कि यह सेक्टर एलोकेशन और स्टॉक चयन के मामले में कितना विविध दिखता है। इसका अनुमान फंड के टॉप 10 सेक्टर और स्टॉक होल्डिंग से लगाया जा सकता है। जब आप विंटेज को देखते हैं, तो इससे आपको अंदाज़ा हो जाता है कि फंड ने कितने आर्थिक चक्रों का सामना किया है। बुल रन के दौरान, अधिकांश फंड अच्छा परफॉर्म करते हैं, लेकिन बुल और बियर मार्केट फेज़ के पूरे चक्र के दौरान फंड कैसा परफॉर्म करते हैं, यह पोर्टफोलियो की फ्लेक्सिबिलिटी का इंडिकेटर है। फंड मैनेजर का ट्रैक रिकॉर्ड फंड के विंटेज से काफी हद तक जुड़ा हुआ है। आप फंड मैनेजर के ट्रैक रिकॉर्ड को बेहतर ढंग से देखने के लिए उसके द्वारा मैनेज किए गए दूसरे फंडों को देख सकते हैं।

एक्स्पेंस रेशो इस बात का एक महत्वपूर्ण इंडिकेटर है कि फंड को कितनी अच्छी तरह से मैनेज किया जा रहा है जो फंड के परफॉर्मेंस से अलग होता है। एक्सपेंस रेशो जितना कम होता है, निवेशक के लिए उतना ही अच्छा होता है। 

आगे, स्टैन्डर्ड डीवीऐशन और बीटा जैसे इक्विटी फंड जोखिम के मुख्य इंडिकेटर को देखते हैं। पहला आपको रिटर्न में फंड की अस्थिरता या इसके रिटर्न में अपेक्षित उतार-चढ़ाव के बारे में बताता है। उच्च स्टैन्डर्ड डीवीऐशन का मतलब है कि आप फंड रिटर्न में ज़्यादा अस्थिरता की उम्मीद कर सकते हैं मतलब फंड के औसत अपेक्षित रिटर्न में दोनों तरह के (अच्छे और बुरे) उतार-चढ़ाव होने की संभावना होती है। बीटा बाजार की गतिविधियों के लिए फंड की संवेदनशीलता का इंडिकेटर है। बीटा>1 का मतलब है कि फंड का NAV बाजार की गतिविधियों के प्रति ज़्यादा संवेदनशील है। इसलिए बाजार के फेज़ में तेज़ी के दौरान फंड बाजार की तुलना में ज़्यादा बढ़ेगा और बाजार में मंदी के फेज़ में बाजार की तुलना में ज़्यादा गिरेगा। बीटा = 1 का मतलब है कि फंड का NAV बाजार की गति के साथ-साथ आगे बढ़ेगा। कम जोखिम वाले इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में आमतौर पर बीटा <1  होता है।

अपना पोर्टफोलियो चुनने से पहले फंड्स के बारे में जानकारी जुटाने और उनकी जांच करने के लिए थोड़ा समय खुद बिताएं या किसी वित्तीय सलाहकार से मार्गदर्शन लें।

291
मैं निवेश के लिए तैयार हूँ